सुखिजंदर रंधावा की श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार से अपील; बैसाखी के अवसर पर सिख संगत को एकत्रित न होने का संदेश दिया जाए

‘‘मौजूदा संकट के चलते सिख संगत अपनी-अपनी जगह पर कौम की चड़दी कला के लिए अरदास और ज़रूरतमंदों की मदद करें’’

चंडीगढ़, 1 अप्रैल: पंजाब के सहकारिता एवं जेल मंत्री स. सुखजिन्दर सिंह रंधावा ने श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार सिंह साहिब ज्ञानी हरप्रीत सिंह से अपील की कि वह सिख कौम के नाम संदेश जारी करते हुए बैसाखी के अवसर पर जलसा न करने के लिए कहें। उन्होंने कहा कि वह कोविड-19 के संकट के चलते स्वास्थ्य विभाग की हिदायतों के अनुसार एहतियात के तौर पर शारीरिक दूरी को ज़रूरी बनाए रखने से ही इस ख़तरनाक महामारी से बचने का इकलौता इलाज और परहेज़ है।

आज यहाँ जारी प्रैस बयान में कैबिनेट मंत्री स. रंधावा ने जत्थेदार साहिब से अपील करते हुए कहा, ‘‘आप जी इस तथ्य से भलीभांति अवगत होंगे कि पूरा विश्व इस समय जानलेवा रोग कोरोना वायरस के संकट से गुजऱ रहा है। यह और भी चिंता का विषय है कि यह रोग मानव से मानव के संपर्क में आने से और अधिक पैर पसारता है। आप जी अवगत होंगे कि कुछ दिनों के बाद खालसा पंथ का स्थापना दिवस ‘बैसाखी’ का पवित्र त्योहार आ रहा है जिसके दौरान संगत पवित्र स्थानों के दर्शन-दीदार करती है। इस बार हालात ऐसे बने हुए हैं कि संगत के एकत्रित होने से बचा जाना चाहिए।’’

स. रंधावा ने निमाणे सिख के तौर पर जत्थेदार साहिब से अपील करते हुए कहा, ‘‘आप जी को विनती है कि हमेशा की तरह कौम का नेतृत्व करते हुए आप सिख कौम को इस बार एकत्रित न होने और अपने घरों में रह कर कौम की चड़दी कला और सरबत के भले के लिए दो समय की रोटी के मोहताज लोगों की सहायता करने में अधिक से अधिक योगदान देने का संदेश दो जिससे मानवता को इस संकट से बचाने के लिए किये जा रहे उपायों की पालना को यकीनी बनाया जा सके।’’

error: Content is protected !!