अगर सुधार करना है तो सोच को बदलना जरुरी, साफ सफाई समय की मुख्य जरुरत- विधायक पाहड़ा

मेन बाजार में करवाई नालों, सीवरेज की सफाई, दुकानदारों से की अपील थड़े तुड़वाकर नए उंचे कर बनवाएं, जो जंगले नही बना सकते उनका खर्च वह वहन करेगें।

गुरदासपुर। हलका विधायक बरिंदरमीत सिंह पाहड़ा ने कोरोना वायरस की महामारी को देखते हुए शहर के बाजारों की कौसिल कर्मचारियों से सफाई करवाई। वहीं उन्होंने शहर वासियों से अपील की कि सफाई का खास ध्यान रखा जाए।

विधायक बरिंदरमीत सिंह पाहड़ा ने कहा कि इस समय देश में कोरोना की महामारी चल रही है। इस दौरान वह शहर की सफाई पर पूरा ध्यान दे रहे है। जिसके चलते मेन बाजार के नाले की सफाई का काम शुरु करवाया गया। लेकिन दुकानदारों द्वारा दुकानों के आगे नाले के ऊपर बनाए गए थड़े बहुत ही नीचे व गलत तरीके से बनाए गए है। जिसके चलते सफाई कर्माचरियों को नाले की सफाई करने में भारी परेशानी आ रही है। उन्होंने कहा कि इसके लिए जरुरी है कि सभी दुकानदार अपने थड़ो को तोडक़र ऊंचा करें और उनमें जंगले लगाए। उन्होंने कहा कि कोरोना की बीमारी से बच भी गए तो बाजार में जो हालात है किसी भी समय कोई बड़ी बीमारी फैल सकती है। जिसकी जिम्मेदारी उनकी या जिला प्रशासन की नहीं होगी।

विधायक पाहड़ा ने कहा कि वह किसी से भी धक्केशाही करके थड़े नही तोड़ेंगे। लेकिन इसके बदले में दुकानदारों को उन्हें लिखित में देना होगा या तो थड़े तोडक़र ठीक करवाएं जाएं या फिर कर्मचारी इस क्षेत्र में सफाई करने नहीं आएंगे। चाहे हालात कुछ भी हों। अगर दुकानदारों को उक्त दोनों ही बातें मंजूर नहीं है। फिर वह जिला प्रशासन से बात करके अपने तौर पर फैसला लेंगे। उन्होंने कहा कि हमारे लिए बहुत शर्म की बात है कि हम एसी लगाकर अपने दुकानों में बैठ जाए और बाहर गंदगी फैली हो। वह शहर को सफाई के क्षेत्र में लगातार आगे ले जाने का प्रयास कर रहे है। जिसमें दुकानदारों के सहयोग की बहुत जरुरत है। उन्होंने कहा कि बाजार में सीवरेज की पाइप की जांच के लिए संबंधित विभाग को बोल दिया गया है। अगर जरुरत पड़ी तो सीवरेज पाइप को बदलवा दिया जाएगा।

विधायक पाहड़ा ने कहा कि जिस तरह से कोरोना बीमारी फैली हुई है। सफाई समय की जरुरत बन चुकी है। अगर जिंदगी रहेगी तो सब कुछ मिल जाएगा। शहर की सफाई के लिए सभी को अपना सहयोग देना चाहिए। उन्होंने कहा कि जो दुकानदार अपना थड़ा तुड़वा कर जंगले डालने का खर्च नहीं कर सकता। वह उन्हें बता दें उसका खर्च वह खुद करवा देंगे। उन्होंने कहा िक अगर सुधार करना है तो सोच को बदलना होगा। कुछ लोगों की सोच है कि अगर सफाई कर्मचारी किसी भी हालत में सफाई करते है तो उसके बदले में वह वेतन भी लेते है। लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि आखिर वह भी इंसान है। इस मौके पर उनके साथ मिल्क प्लांट गुरदासपुर के चेयरमैन एडवोकेट बलजीत सिंह पाहड़ा, केपी पाहड़ा, नगर कौंसिल के सुपरिटेडेंट अशोक कुमार, अजय सूरी आदि उपस्थित थे।

error: Content is protected !!