नरिन्दर मोदी आम लोगों का नहीं सिर्फ अम्बानियों-अंडानियों का प्रधान मंत्री -भगवंत मान

चंडीगड़, 13 फरवरी । अकाली दल (बादल) के सहयोग वाली केंद्र की भाजपा सरकार की तरफ से रसोई गैस की कीमतों में किये बेतहाशा वृद्धि का तीखा विरोध करते हुए मोदी सरकार को देश और लोग विरोधी सरकार करार दिया है।

‘आप’ हैडक्वाटर द्वारा जारी बयान में भगवंत मान ने कहा कि दिल्ली विधान सभा चुनाव के नतीजों के तुरंत बाद प्रति सिलंडर सीधा 144.50 रुपए की बढ़ौतरी आम आदमी के लिए न बर्दाश्त करनयोग है। भगवंत मान ने सवाल उठाया कि क्या मोदी सरकार दिल्ली का चुनाव निकलने का इन्तजार कर रही थी।

मान ने कहा कि मोदी सरकार देश के चंद कॉर्पोरेट घराणों की ओर से हाइजैक कर ली गई है। रेलवे समेत सरकारी अदारों का अंधाधुन्ध निजीकरण, डीजल-पेट्रोल और रसोई गैस समेत हर जरूरी वस्तुओं की कीमतों में बार-बार बढ़ौतरी करना साबित करता है कि मोदी सरकार देश और देश के लोगों के लिए नहीं बल्कि अम्बानियों-अंडानियों समेत गिणती के कॉर्पोरेट घरानों के लिए काम कर रही है। भगवंत मान ने कहा कि रसोई गैस सिलेंडर में सीधे 144.50 रुपए के वृद्धि से स्पष्ट है कि नरिन्दर मोदी देश के गरीबों, दलितों और आम लोगों के प्रधान मंत्री न हो कर सिर्फ अम्बानियों और अंडानियों के प्रधान मंत्री के तौर पर काम कर रहे हैं, क्योंकि डीजल-पेट्रोल और रसोई गैस की कीमतों में वृद्धि का सीधा लाभ अम्बानियों और अंडानियों जैसे बड़े औद्योगिक घराणों को मिलता है। 

भगवंत मान ने अकाली दल (बादल) को घेरते कहा कि जब मोदी सरकार ऐसे लोक और देश विरोधी फैसले लेती है तो हरसिमरत कौर बादल कहां सो जाती हैं? मान ने आरोप लगाया कि बीबी बादल अपनी वजीरी बचाने के लिए मोदी सरकार के लोक विरोधी फैसलों पर चुप्पी साध लेती हैं।मान ने जहां मोदी सरकार से रसोई गैस की कीमतें तुरंत वापिस लेने की मांग वहीं हरसिमरत कौर बादल का इस्तीफा भी मांगा। 

error: Content is protected !!