‘आप’ के हक में बुराई पर नेकी की जीत दर्ज करेंगे दिल्ली निवासी-भगवंत मान

देश की राजनीति को ‘काम की राजनीति’ की तरफ मोड़ेगी दिल्ली में केजरीवाल की रिकार्ड जीत -आप संसद


नई दिल्ली /चण्डीगढ़। दिल्ली विधान सभा चुनाव के लिए प्रचार के अंतिम दिन आम आदमी पार्टी (आप) के उम्मीदवारों के हक में पार्टी की पंजाब इकाई ने सारी ताकत झोंक दी। ‘आप’ पंजाब के प्रधान और संसद मैंबर भगवंत मान ने स्टार प्रचारक के तौर पर वीरवार को भी सब से अधिक 6 विधान सभा हलकों में विशाल रोड शो के दौरान दर्जन से अधिक जन-सभाओं को संबोधन करते हुए दिल्ली की जनता को आम आदमी पार्टी के उम्मीदवारों को बड़े फर्क के साथ जिताने के लिए प्रभावशाली अपील की। इन हलकों में रिठाला, रोहनी, सीलमपुर, गौंडा, मुस्तफाबाद और रोहतास नगर शामिल हैं। 
    

इस मौके पर भगवंत मान ने कहा कि दिल्ली विधान सभा का चुनाव कई पक्षों से एतिहासिक चुनाव साबित हो रहा हैं और पूरे देश की नजरें दिल्ली चुनाव पर हैं, क्योंकि जहां अरविन्द केजरीवाल के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी अपने 5 सालों के कामों के नाम पर वोट मांग रही है, वहीं मोदी-अमित शाह के नेतृत्व में धर्म की आड़ में सांप्रदायिक नफरत और जहर के साथ भरी राजनीति के द्वारा दिल्ली और देश के लोगों का ध्यान असली मुद्दों से भटकाने के लिए हर घटिया से घटिया दाव पेच खेलने की कोशिश कर रही है।

भाजपा की इस कोशिश में वह तमाम तरह का हल प्रचार और घातक तिगड़मबाजी शामिल है, जिस का लोगों की रोजमरा की मुश्किलों, जरूरतों और जेबों या चूल्हे की आग के साथ कोई सम्बन्ध नहीं। इस लिए दिल्ली के लोगों की जिम्मेदारी ओर भी अधिक हो गई है कि वह बुराई पर नेकी की शानदार जीत निश्चित करके पूरे देश की राजनीति को जनहत पर आधारित ‘काम की राजनीति’ की तरफ मोड़ें, क्योंकि 70 सालों के इतिहास में अरविन्द केजरीवाल पहले मुख्य मंत्री साबित हुए हैं जो 2020 के इन चुनाव में अपने 5 सालों में किए कामों के लिए वोट मांग रहे हैं और अगले 5 सालों के वायदों के लिए गारंटी कार्ड जारी कर रहे हैं।

भगवंत मान ने बताया कि दिल्ली चुनाव के लिए जहां आम आदमी पार्टी पंजाब के सभी विधायक, सीनियर नेता और अधिकारियों ने पिछले 20-25 दिनों से दिन रात एक किया हुआ है, वहीं दूसरी तरफ राज्य के मुकाबले पंजाब के वलंटियर ज़्यादा संख्या में पहुंचे है। उन्होंने बताया कि पंजाब से 5000 से अधिक वलंटियरों ने दिल्ली चुनाव में प्रचार किया। बतौर प्रधान वह सभी नेताओं और वलंटियरों का दिल से धन्यवाद करते हैं। 

मान के अनुसार इस बात की ओर भी खुशी हुई कि उनको दिल्ली चुनाव में बहुत से मुलाजिम संगठनों के नेता, वकील, डाक्टर भी प्रचार करते मिले, जो पार्टी के साथ सीधे तौर पर नहीं जुड़े हुए थे। इस के बिना बहुत से वालंटियर और नेता भी ‘आप’ के प्रचार में नजर आए जो किसी न किसी कारण पार्टी के साथ नाराज चल रहे थे, या कुछ खुदगर्ज किस्म के गद्दार नेताओं के बहकावे में आ कर पार्टी से दूर हो गए थे। मान ने कहा कि इस सकारात्मिक रुझान से स्पष्ट है कि दिल्ली फतेह के बाद 2022 में पंजाब में भी आम आदमी पार्टी की निश्चित रूप से सरकार बनेगी।

भगवंत मान ने बनाया 200 से अधिक प्रोग्राम का रिकार्ड
दिल्ली चुनाव में भगवंत मान ने 200 से अधिक जन सभाएं, पैदल मार्च और रोड शो का रिकार्ड बनाया है। करीब 22 दिनों के प्रचार के दौरान भगवंत मान हर रोज 8 से 12 प्रोग्राम करने वाले अकेले स्टार प्रचारक साबित हुए। जिन्होंने पार्टी सुप्रीमो अरविन्द केजरीवाल की तरह सभी हलकों में चुनाव प्रचार किया।

इसके इलावा विपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा, प्रिंसीपल बुद्ध राम, पूर्व एम.पी साधु सिंह, विधायक अमन अरोड़ा, कुलतार सिंह संधवां, बीबी सरबजीत कौर माणूंके, प्रो. बलजिन्दर कौर, रुपिन्दर कौर रूबी, मीत हेयर, जै कृष्ण सिंह रोड़ी, मास्टर बलदेव सिंह, मनजीत सिंह बिलासपुर, कुलवंत सिंह पंडोरी (सभी विधायक), सीनियर आगू कुलदीप सिंह धालीवाल, हरचंद सिंह बरस्ट, सुखविन्दर सुखी, दलबीर सिंह ढिल्लों, गैरी बडि़ंग, गुरदित्त सिंह सेखों, डा. रवजोत, नवदीप सिंह संघा, नरिन्दर सिंह शेरगिल, जमील उर रहमान, करनवीर सिंह टिवाना, ज्ञान सिंह मूंगो, गगन चड्ढा, राज लाली गिल, जसकीरत मान, अणु बब्बर, जीवन जोत कौर, रजिन्दर पाल कौर छीना, भुपिन्दर कौर, डा. गुरप्रीत नत, हरिन्दर सिंह, इकबाल सिंह, गोबिन्दर मित्तल, नील गर्ग, कमल गर्ग कैनेडा, जगतार सिंह संघेड़ा, सतबीर वालिया समेत हलका प्रधान, जिला प्रधान, विंगों के प्रधान और पदाधिकारियों ने दिल्ली चुनाव में ‘आप’ के प्रचार को शीर्ष पर पहुंचाने के लिए दिन रात एक किया। 

Coronavirus Update (Live)

Coronavirus Update

error: Content is protected !!