हैल्थ वर्करों, फ्रंटलाईन वर्करों की नई रजिस्ट्रेशन हुई रद्द, अब महज 45 साल से उपर ही लोग ही लगवा पाएंगे वैक्सीन

कई सफाई कर्मचारी, आंगनवाड़ी वर्करों को नहीं लगी है अभी वैक्सीन, दुविधा में कर्मचारी, कहा अब दिल से डर हटा तो सरकार ने बदल लिया फैसला

मनन सैनी
गुरदासपुर, 5 अप्रैल। देश में कोरोना वायरस के खिलाफ सबसे पहले चरण पर जंग लड़ रहे तथा सबसे पहले वैक्सीन पाने का हकदार माने गए फ्रंटलाईव वर्कर्स व स्वस्थ्य कर्मियों के लिए बुरी खबर है। अब बतौर फ्रंट लाईन वर्कर वह वैक्सीन लगवाने के लिए अपनी नई रजिस्ट्रेशन नही करवा पाएंगे। अब सिर्फ जिनकी उर्म 45 साल या इससे उपर है वहीं अब वैक्सीन के हकदार होगें। यह फैसला केंद्र सरकार की ओर से लिया गया है, जिसके चलते फ्रंटलाईन वर्कर जिन्होने अभी तक न तो रजिस्ट्रेशन करवाया तथा जिनकी उर्म 45 साल से नीचे है उनमें बेहद हताशा व निराशा दिख रही है। गौर रहे कि केंद्र सरकार की ओर से यह फैसला कोरोना वैक्सीन की रजिस्ट्रेशन में सामने आ रही गड़बड़ियों को देखते हुए लिया है।

हाल ही में केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय के सचिव और राज्‍यों के प्रतिनिधियों की बैठक हुई में इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाया गया था। बैठक में बताया गया कि कई राज्यों में स्वास्थ्य कर्मी और फ्रंटलाइन श्रेणी में सामान्‍य लोगों को टीका दिए जाने के मामले सामने आए हैं। इस समूह के लोगों के लिए दूसरी डोज लेने के लिए सरकार की ओर से कई बार आदेश दिया गया लेकिन दूसरी डोज लेने की संख्‍या बढ़ने के बजाय 25 प्रतिशत नए रजिस्‍ट्रेशन बढ़ गए। जबकि वैक्‍सीन की शुरुआत ही सरकार ने इस श्रेणी से की थी। ऐसे में सवाल उठता है कि नए स्‍वास्‍थ्‍य कर्मी एक साथ कैसे बढ़ गए। स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों के बाद सरकार ने दो फरवरी से इस क्रम में फ्रंटलाईन वर्कर को भी जोड़ दिया और इन्‍हें टीका लगवाने के लिए प्रोत्‍साहित किया लेकिन सरकार ने अब इस श्रेणी के समूह के लिए सख्त आदेश जारी कर दिए हैं।

वहीं इस संबंधी स्वस्थ्य वक्रर तथा फ्रंट लाईन वर्कर जिनमें आंगनवाड़ी वर्कर, आशा वर्कर, सफाई कर्मचारी इत्यादि है वह इस आदेश के चलते काफी निराश है तथा दुविधा में है। इस संबंधी अपना नाम न छापने की शर्त पर एक आशा वर्कर जिसकी उर्म करीब 38 तथा सफाई कर्मचारी जिसकी उर्म करीब 30 साल है ने बताया कि पहले उनमें टीकाकर्ण को लेकर बेहद डर था, परन्तु अब जब वह टीकाकर्ण के लिए तैयार होकर गए तो पता चला कि उनकी रजिस्ट्रेशन नही होगी। उन्होने कहा कि सरकार को अपने फैसले पर गौर करना चाहिए।

इस संबंधी जिला टीकाकर्ण अधिकारी डॅा मनचंदा ने बताया कि सरकार की ओर से आदेश के बाद पोर्टल से सुविधा खुद ही खत्म कर दी गई है। उन्होनें बताया कि हमारे जिले में हैल्थ वर्करों तथा फ्रंटलाईन वर्करों को लगभग वैक्सीन लग चुकी है। परन्तु कितने रह चुके है इस संबंधी डाटा उनके पास नही है।

वहीं गुरदासपुर के डिप्टी कमिश्नर मोहम्मद इश्फाक ने बताया कि सरकार की ओर से हैल्थ वर्करों को रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए दो माह का समय दिया गया था। अब केंद्र सरकार की ओर से उम्र सीमा तय कर दी गई है । आंकडों से पता चला है कि 45 साल से अधिक उम्र वाले हाई रिस्क की सीमा में आते है तथा अब इसे कवर किया जाएगा। जो भी हैल्थ वर्कर या फ्रंट लाईन वर्कर या कोई भी 45 साल से अधिक है सभी का टीकाकर्ण हो रहा है। जिन लोगों ने पहले रजिस्ट्रेशन करवाई है तथा उन्हे टीका लगाया जाएगा, परन्तु नई रजिस्टेशन अभी बंद कर दी गई है। डीसी ने कहा कि आने वाले समय में स्वस्थ्य विभाग की ओर निर्देशों के बाद पता चलेगा कि अगले चरण में किस उम्र की सीमा तय होती है।

Print Friendly, PDF & Email
Thepunjabwire
  • 7
  • 70
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    77
    Shares
error: Content is protected !!