पंजाब के 81 प्रतिशत नमूनों में पाया गया यू.के. का वायरस, मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को टीकाकरण के दायरे में युवा जनसंख्या को भी शामिल करने के लिए कहा

लोगों को टीका लगवाने और सुरक्षा नियमों का पालन करने की अपील

चंडीगढ़, 23 मार्चः राज्य द्वारा कोरोना वायरस के रूप के स्तर का पता लगाने के लिए भेजे गए 401 नमूनों में से 81 प्रतिशत में यू.के. के कोविड की किस्म पए जाने के मद्देनज़र पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने मंगलवार को लोगों को कोविड का टीका लगवाने की अपील की और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को टीकाकरण का दायरा बढ़ाकर इसमें 60 वर्ष से कम उम्र के लोगों को शामिल करने के लिए कहा क्योंकि यह वायरस युवा लोगों को और ज्यादा प्रभावित करता हुए पाया गया है।

ताज़ा स्थिति पर चिंता ज़ाहिर करते हुए मुख्यमंत्री ने इस बात की ज़रूरत पर ज़ोर दिया कि केंद्र सरकार द्वारा आबादी के बड़े वर्ग को भी टीकाकरण मुहिम में जल्द से जल्द शामिल किया जाये। उन्होंने कहा कि इस प्रक्रिया में तेज़ी लाई जानी चाहिए। उन्होंने ध्यान दिलाया कि माहिरों द्वारा मौजूदा कोवीशील्ड दवा को यू.के. के वायरस बी.1.1.7 के लिए भी बेहद कारगर पाया गया है। इसलिए इस वायरस के फैलाव की लड़ी को तोड़ने के लिए अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण किया जाना ज़रूरी है।

कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने लोगों को भी कोविड से सुरक्षा संबंधी सभी नियमों जैसे कि मास्क पहनना और सामाजिक दूरी बनाए रखने आदि का पालन करने की अपील की। उन्होंने चेतावनी दी कि राज्य सरकार, जिसने ताज़ा पाबंदियों का ऐलान कर दिया है, और अधिक पाबंदियाँ लगाने के लिए मजबूर होगी यदि लोगों ने कोविड से बचाव संबंधी नियमों का पालन न किया।

मुख्यमंत्री द्वारा यह अपील राज्य की कोविड माहिरों की समिति के प्रमुख डॉ. के.के. तलवार द्वारा उनको इस वायरस के नये रूप संबंधी जानकारी दिए जाने के बाद की गई है। राज्य में बीते कुछ हफ़्तों के दौरान कोविड-19 के पॉज़िटिव मामलों की संख्या में बड़े स्तर पर वृद्धि हुई है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग द्वारा इस वायरस के रूप के स्तर का पता लगाने के लिए 478 कोविड-19 पॉज़िटिव नमूने एन.आई.बी., आई.जी.आई.बी. और एन.सी.डी.सी. को भेजे गए थे। इनमें से 90 नमूनों के नतीजे आ गए हैं जिनमें से सिर्फ़ दो नमूनों में ही एन440 की किस्म पाई गई है।

इसके बाद भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की एक टीम ने पॉज़िटिव दर में वृद्धि की समीक्षा करने के लिए राज्य का दौरा किया। टीम को इस वायरस के रूप के स्तर का पता लगाने के बाकी रहते नतीजों बारे जानकारी दी गई। इसके बाद 401 नमूने, जोकि 1 जनवरी, 2021 से लेकर 10 मार्च, 2021 तक लिए गए थे, एन.सी.डी.सी. को भेजे गए जिससे इस वायरस के रूप के स्तर का पता किया जा सके। डॉ. के.के. तलवार ने कहा कि इन नमूनों के नतीजे चिंताजनक थे क्योंकि 326 कोविड नमूनों में बी.1.1.7 किस्म की मौजूदगी पाई गई।
मुख्यमंत्री ने कहा कि उनको डॉ. तलवार ने जानकारी दी है कि यू.के. की यह किस्म बी.1.1.7 ज़्यादा संक्रमित है परन्तु ज़्यादा ज़हरीली नहीं है। ऑक्सफोर्ड (कोवीशील्ड) की दवा यू.के. की इस नयी किस्म के लिए पूरी तरह कारगर है।

ध्यान देने की बात है कि बी.1.1.7 किस्म अब दुनिया के कई हिस्सों में फैल गई है और यू.के. में इसके 98 प्रतिशत और स्पेन में 90 प्रतिशत नये मामले हैं। यू.के. की सरकार ने कहा है कि मूल वायरस से यह नयी किस्म 70 प्रतिशत तक अधिक फैलने योग्य है।

Print Friendly, PDF & Email
Thepunjabwire
  • 20
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    20
    Shares
error: Content is protected !!