कांग्रेस की शानदार जीत ने साबित कर दिया कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह ही पंजाब के असली ‘कप्तान’-सुखजिन्दर सिंह रंधावा

वर्ष 2022 में भी मुख्यमंत्री के नेतृत्व में ही चुनावी मैदान में उतरेगी कांग्रेस

किसानों के अस्तित्व को मिटाने का एजेंडा को लेकर चली भाजपा स्वयं पंजाब के राजनैतिक मानचित्र से गायब

चंडीगढ़, 18 फरवरी: पंजाब के निकाय चुनाव के नतीजों में कांग्रेस की शानदार जीत का सेहरा मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह के सिर बाँधते हुए वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और कैबिनेट मंत्री सुखजिन्दर सिंह रंधावा ने कहा कि इन नतीजों में लोगों ने स्पष्ट जनादेश दे दिया है कि पंजाब और यहाँ के लोगों के असली ‘कप्तान’ कौन हैं। इन चुनावी नतीजों को वर्ष 2022 की विधान सभा चुनावों का सेमी-फ़ाईनल बताते हुए कांग्रेसी नेता ने कहा कि पंजाब के समझदार वोटरों ने कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व वाली सरकार की जन पक्षीय नीतियों पर मोहर लगाई है और कैप्टन अमरिन्दर सिंह सबसे कद्दावर नेता बन कर उभरे हैं।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी आगामी विधान सभा चुनावों में भी कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व में ही चुनावी मैदान में उतरेगी और निकाय चुनावों की तरह शानदार जीत हासिल करेगी। देश की राष्ट्रीय पार्टी भारतीय जनता पार्टी को निकाय चुनाव में कुल 2165 सीटों में से सिफऱ् 47 सीटें मिलने पर तंज कसते हुए स. रंधावा ने कहा कि काले कृषि कानून लाकर किसानों के अस्तित्व को मिटाने का एजेंडा लेकर चली भाजपा स्वयं ही राज्य के राजनैतिक मानचित्र से मिट गई है। उन्होंने कहा कि यहाँ तक कि गुरदासपुर और पठानकोट में फिल्मी अभिनेता के संसदीय क्षेत्र में भाजपा के कमल का फूल पूरी तरह मुरझा गया है, जहाँ वहाँ के सांसद की ‘राजनैतिक अभिनय’ भी भाजपा की बेड़ी को पार न लगा सकी।

स. रंधावा ने वर्ष 2017 की विधान सभा चुनावों और उसके बाद वर्ष 2019 की लोक सभा चुनाव का जि़क्र करते हुए कहा कि अब की तरह उस समय भी कैप्टन अमरिन्दर सिंह ही एकमात्र ऐसे नेता बनकर उभरे थे जिन्होंने नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा को मुँह तोड़ जवाब दिया था। उन्होंने बताया कि कांग्रेस ने निकाय परिषदों के 1815 वॉर्डों में से 1199 वॉर्डों और 7 नगर निगमों की 350 सीटों में से 281 सीटों पर शानदार जीत हासिल की, जबकि अकाली दल को क्रमवार 289 और 22, भाजपा को 38 और 20 और ‘आप’ को 57 और 9 सीटों पर सब्र करना पड़ा। बाकी ज्य़ादातर सीटें भी आज़ाद उम्मीदवारों की झोली में पड़ीं, जबकि बी.एस.पी. और सी.पी.आई. को क्रमवार 13 और 12 वॉर्डों पर ही जीत नसीब हुई। उन्होंने कहा कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह की सरकार बनने से राज्य में पंजाब विधान सभा चुनावों की पाँच उप चुनाव में से चार सीटें जीती और इसी तरह वर्ष 2017 में अमृतसर लोक सभा क्षेत्र के उप चुनाव में भी पार्टी ने बड़ी जीत हासिल की थी।

स. रंधावा ने कहा कि कोविड-19 की महामारी, बाढ़ और अब किसान आंदोलन जैसी आपातकालीत और चुनौतीपूर्ण स्थितियों में मुख्यमंत्री ने बेमिसाल नेतृत्व दिया है और ऐसे संजीदा मुद्दों के प्रति दूरदर्शी पहुँच का परिचय दिया है, जिससे उन्होंने राज्य के सभी वर्गों का दिल जीता है। उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था, कजऱ् माफी, रोजग़ार सृजन और ख़ासकर राज्य को नशों की दलदल में से निकालने की बात हो तो कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने इन सभी मोर्चों पर पंजाब और यहाँ के लोगों के प्रति अपना फज़ऱ् निभाया है, जिससे लोगों ने झूठा प्रचार करने वाली विरोधी पार्टियों को उनकी असली जगह दिखाते हुए कांग्रेस पार्टी की नीतियों पर भरोसा ज़ाहिर किया है।

Print Friendly, PDF & Email
Thepunjabwire
  • 8
  • 68
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    76
    Shares
error: Content is protected !!