मिलावट खोरों पर नकेल डालने के लिए स्वस्थ्य विभाग सतर्क

शुक्रवार को भरे 13 सैंपल,  जांलधर से लाई जा रही 50 किलो फफूंद लगी मिठाई की नष्ट

गुरदासपुर, 6 नवंबर(मनन सैनी)। अगामी त्योहारों के चलते एक तरफ जहां मिलवाटखोर सरगर्म हो गए है वहीं उन पर नकेल डालने के लिए स्वस्थ्य विभाग भी पूरी तरह से मुस्तैद दिख रहा है। जिसके चलते शुक्रवार को स्वस्थ्य विभाग के सहायक कमिशर फूड़ सेफ्टी डॉ जी एस पन्नू की ओर से तिब्बड़ी रोड़ पर जांलधर से लाई जा रही फफूंद लगी 50 किलो मिठाई पकड़ कर नष्ट की गई। यह मिठाई एक गाड़ी में लाई जा रही थी जिसमें करीब डेढ़ किवंटल मिठाई थी। शेष ​मिठाईयों के भी सैंपल भरे गए है। विभाग की ओर से शुक्रवार को गुरदासपुर तथा कलानौर में चेकिंग कर कुल 13 सैंपल भरे गए, जिसमें दुग्ध पदार्थ भी शामिल थे।  

प्राप्त जानकारी के अनुसार गुप्त सूचना के आधार पर सुबह स्वस्थ्य विभाग ने दूसरे जिले जा रहे एक वाहन (पीबी 08 सीपी 2514) को रोका। उसमें लगभग डेढ़ क्विंटल मिठाइयां थीं। सेहत विभाग के सहायक कमिश्नर डा. जीएस पन्नू भी मौके पर पहुंचे। उनके मुताबिक गाड़ी में रखी 50 किलो मिठाइयों पर फफूंद जमी हुई थी, जिसे कब्जे में ले लिया गया। जब्त की गई मिठाइयों को सेहत विभाग ने गड्ढा खोदकर उसमें डालकर ऊपर से मिट्टी डाल दी। वहीं बाकी बची मिठाइयों के सैंपल लेकर चंडीगढ़ लैब में जांच के लिए भेजा गया है। इसके बाद गाड़ी को जाने दिया गया। बताया जा रहा है कि ये मिठाइयां जालंधर से बनकर दूसरे जिलों में भेजी जा रही थीं।

गोपनीय सूत्रों की माने तो दिवाली को लेकर शहर के कुछ नामवर दुकानदारों ने अमृतसर, जालंधर जैसे बड़े शहरों से मिलावटी और सिंथेटिक मावा मंगवाया है। इसे फिलहाल गुप्त स्थानों पर रखा गया है। मांग के मुताबिक दुकानदार धीरे-धीरे इसे निकालते हैं। इस खोये के खाने से लोगों के बीमार होने का खतरा बढ़ गया है। 

इस संबंधी पुष्टी करते हुए सहायक कमिशनर डॉ जी एस पन्नू ने बताया कि उनकी ओर से गत दिनों गुरदासपुर के मिठाई के दुकानदारों से मीटिंग कर उन्हे कहा गया है कि वह लोगो की सेहत के साथ खिलवाड़ करने वालों को कदापि नही बख्शेंगे। इसी तरह मिठाईयों में खाने में इस्तेमाल होने वाले उपयुक्त रंग ही मिलाए जाए न कि सिंथेटिक रंगों का इस्तेमाल किया जाए। वहीं उन्होने यह भी कहा कि सभी मिठाईयों पर डेट आफ मैनूफेक्चरिंग तथा बेस्ट बिफोर की स्लिप भी लगी होनी चाहिए। उन्होने कहा कि सिंथेटिक खोए संबंधी उन्हे जानकारी है तथा इस संबंधी वह बेहद सतर्कता बनाए हुए है। 

Manan Saini
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
error: Content is protected !!