अच्छी खबर- गुरदासपुर में जल्द स्था​पित होगी ट्रूनाट मशीन, कोरोना वायरस के नतीजे जल्द सामने लाने में निभाएगी अहम भूमिका, पीसीआर टैस्ट के जरिए पुष्टी के लिए नमूने भेजने नही होगें जरुरी

लुधियाना, जालंधर, मानसा, बरनाला और पठानकोट के जिला अस्पतालों में 5 ट्रूनाट मशीनें पहले ही स्थापित

कोविड-19 के नमूने लेने के लिए आयुष और ग्रामीण मैडीकल अफसरों को दिया जाएगा विशेष प्रशिक्षण

मनन सैनी
गुरदासपुर 10 जून। जिले के लिए अच्छी खबर है सिवल अस्पताल गुरदासपुर में जल्द ट्रूनाट मशीन स्थापित होने जा रही है।​​ जिससे कोरोना वायरस की जल्द टैस्टिंग करने में सहायता मिलेगी तथा नतीजे सामने लाने में यह मशीन अहम भूमिका अदा करेगी। इस मशीन के जरिए बीमार मरीजों, एमरजैंसी सर्जरियों, डायलसिस आदि फ्रंट लाईन वर्करों तथा शक्की पाए जाने मरीजों की तुरंत स्क्रीनिंग करने में सहायक साबित होगी तथा उनका जल्द इलाज किया जा सकेगा। इस मशीन के जरिए अब टैस्ट के नतीजों में भी घंटे भर का महज समय लगेगा और जल्द रिपोर्ट आ कर इलाज संभव हो पाएगा। गुरदासपुर में मशीन आने की पुष्टी गुरदासपुर के सिवल सर्जन किशन चंद की ओर से की गई । हालाकि उन्होने कहा कि उसकी टैस्टिंग क्षमता क्या होगी इसका पता मशीन आने के बाद लगेगा।

​सिवल सर्जन ने बताया कि उक्त मशीन बुधवार शाम को गुरदासपुर में पहुंच जाएगी तथा एक दो दिन में आयुष तथा ग्रामीण मेडिकल अफसरों को ट्रेनिंग देकर यह दो तीन दिन में शुरु करवा दी जाएगी। अभी यह मशीन पंजाब के पांच जिलों लुधियाना, जालंधर, मानसा, बरनाला और पठानकोट के जिला अस्पतालों में उपलब्ध थी। परन्तु पंजाब सरकार की ओर से अब दस जिलों में यह मशीन उपलब्ध करवाई गई है जिसमें गुरदासपुर​ जिला भी शामिल है।

गौर रहे कि अभी ट्रूनाट मशीने सिर्फ नेगेटिव टैस्टों की पुष्टी करती है और पॉजिटिव नतीजों के लिए दोबारा आर.टी-पी.सी.आर टैस्ट लिए जाते है। परन्तु हाल ही में आईसीएमआर ने ट्रूनाट मशीन के पॉजिटिव टैस्टों की जांच की पुष्टि ट्रूनाट मशीन के द्वारा ही दूसरी बार टैस्ट करके किये जाने की मंज़ूरी दी है। जिसके चलते आरटी-पीसीआर द्वारा पॉजिटिव नतीजों की पुष्टि के लिए नमूने भेजना ज़रूरी नहीं होगा। जिसकी पुष्टी खुद स्वस्थ्य विभाग के मंत्री बलबीर सिंह सिद्दू की ओर से की गई थी।

पंजाब सरकार की ओर से 10 अन्य मशीनें बठिंडा, फाजिल्का, गुरदासपुर, होशियारपुर, कपूरथला, मोगा, मुक्तसर साहिब, एस.बी.एस. नगर, रोपड़ और संगरूर में लगाई जाएंगी। जिसकी पुष्टी पंजाब के स्वस्वथ्य​ विभाग के मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू की ओर से की गई ।

विशेशता और कार्यप्रणाली

ट्रूनाट मशीनों की विशेषताओं और कार्य प्रणाली यह है कि ट्रूनाट मशीनों के लिए ए.सी. या विशेष बायो -सेफ्टी कैबिनेट की ज़रूरत नहीं है, इसको प्राथमिक हैल्थ सैंटर में भी आसानी से स्थापित किया जा सकता है। एक ट्रूनाट मशीन पर एक समय कोविड -19 का टैस्ट करने के लिए एक घंटा लग सकता है। एक निश्चित समय में दो नमूनों की एक ही समय जांच की जा सकती है।

रोजाना के होने वाली टेस्टिंग में विस्तार करते हुए ट्रूनाट मशीनों का सभ्य प्रयोग करने के लिए माईक्रोबायोलोजिस्ट / पैथोलोजिस्ट / मैडीकल अफ़सर को नोडल अधिकारी नियुक्त किया जाएगा।

काबिलेगौर है कि यह मशीनें जो शुरू में टीबी के टैस्ट के लिए इस्तेमाल की जाती थीं, का प्रयोग जिला स्तर पर जांच प्रक्रिया शुरू करने के लिए जिला अस्पतालों में कोविड -19 की टेस्टिंग के लिए किया जा रहा है।

Coronavirus Update (Live)

Coronavirus Update

error: Content is protected !!