पंजाब पुलिस ने ज़रूरतमंदों को बाँटे 1.50 लाख ड्राई फूड पैकेट, नागरिकों तक घर -घर सेवाएंं पहुँचाने के यत्न तेज़ किये

डीजीपी ने कोविड -19 कफ्र्यू के लिए ई-पास सुविधा की घोषणा की, 112 हेल्पलाइन नंबर को कफ्र्यू हेल्पलाइन में किया तबदील

चंडीगढ़, 26 मार्च:राज्य में लगाए गए कफ्र्यू के मद्देनजऱ पंजाब पुलिस ने राज्य भर में राहत कामों को और तेज़ कर दिया है, जिस दौरान ड्यूटी पर तैनात 41000 पुलिस कर्मियोंं द्वारा पिछले 36 घंटों में ज़रूरतमंदों को 1,50,000 से अधिक ड्राई फूड पैकेट बाँटे गए और साथ ही सभी जिलों में नागरिकों को ज़रूरी वस्तुएँ घर-घर पहुंचाईं जा रही हैं।डीजीपी दिनकर गुप्ता ने बताया कि अब तक ज़रूरतमंदों को कुल 1.50 लाख से फूड पैकेट बाँटे गए हैं।

उन्होंने कहा कि आम लोगों को उनकी ज़रूरी ज़रूरतों की पूर्ति और मैडीकल एमरजैंसी से निपटने के लिए सहायता प्रदान करने सम्बन्धी कोविड -19 कफ्र्यू के लिए एक ई-पास सुविधा शुरू की गई है।इसके साथ ही हेल्पलाइन नंबर 112 को कफ्र्यू हेल्पलाइन में तबदील कर दिया गया है जिस पर अब कफ्र्यू  से सम्बन्धित सभी मुश्किलें सुनी जाएंगी और उनका जवाब मिलेगा। डीजीपी ने लोगों से अपील की कि वह बंद के दौरान पैदा हुई किसी भी एमरजैंसी के लिए पुलिस के साथ संपर्क करें।डीजीपी ने आगे कहा कि ई -पास सुविधा ज़रूरी चीजें और सेवाओं की निर्विघ्न यातायात को यकीनी बनाऐगी और मैडीकल एमरजैंसी वाले नागरिकों की भी सहायता करेगी। यह सुविधा https://epasscovid19.pais.net.in/.लिंक पर उपलब्ध है। इस प्रणाली में विभिन्न श्रेणियों के अधीन योग्य या डाक्टरी एमरजैंसी वाले व्यक्ति कफ्र्यू पास प्राप्त करने के लिए अपने दस्तावेज़ों समेत विवरण भर कर अपने आवेदन ऑनलाइन जमा करवा सकते हैं।

सुविधा संबंधी बताते हुये डीजीपी ने कहा कि सभी कमिश्नरेटों / जिलों में दो -दो अधिकारियों को ‘कफ्र्यूू पास अधिकारी’ नियुक्त किया गया है। यह अधिकारी सभी आवेदनपत्र की पड़ताल करेंगे और उचित दस्तावेज़ों वाली सही आवेदनों को स्वीकार करने के लिए सभी यत्न करेंगे। स्वीकार किये सभी मामलों में आवेदक को एक लिंक भेजा जाऐगा जिसके द्वारा वह अपने स्मार्ट फ़ोन और ई-पास जनरेट कर सकता है और ज़रूरत पडऩे पर इसको प्रिंट भी कर सकता है। व्यक्ति / वाहन की पहचान के विवरण के अलावा पास पर एक क्यू आर कोड भी होगा जिसकी जांच ड्यूटी पर तैनात पुलिस अधिकारी कर सकते हैं।

हालाँकि इस सुविधा को ज़रूरी वस्तुएँ और सेवाओं की मुफ़्त पहुँच के लिए और एमरजैंसी के दौरान नागरिकों की सहायता के लिए बढ़ा दिया गया है। डीजीपी ने चेतावनी दी है कि यदि कोई भी नागरिक इस पास का दुरुपयोग या वैधता ख़त्म होने के बाद इसका प्रयोग करता पाया गया तो उसके खि़लाफ़ नियमों के अधीन सख्त कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि लोगों को सलाह दी जाती है कि वह अपना पास प्रिंट करवा करके या अपने स्मार्ट फ़ोन में अपने पास रखें जिससे ज़रूरत पडऩे पर पुलिस द्वारा तस्दीक की जा सके।जि़लों में पुलिस टीमों द्वारा किये गए राहत कामों संबंधी बताते हुये डीजीपी ने कहा कि पिछले 24 घंटों में कुल 130000 से अधिक पैकेट अमृतसर, होशियारपुर, बरनाला, बठिंडा, मोगा और ओर जि़लों में ज़रूरतमन्द लोगों को बाँटे गए।

तरनतारन पुलिस की तरफ से पिछले तीन दिनों में तकरीबन 14,300 भोजन पदार्थों के पैकेट बाँटे जा चुके हैं। उन्होंने गोइन्दवाल साहिब, चोहला साहिब, झबाल और भिक्खीविंड के सभी बड़े गुरुद्वारों के साथ साथ बहुत से स्थानीय गुरूद्वारों के साथ तालमेल किया और समूह जी.ओज़, एस.एच.ओज़ और आई /सी पीपीज़ की तरफ से सामाजिक दूरियों के नियमों की पालना करते अलग-अलग क्षेत्रों में यह पैकेट बाँटे जा रहे हैं।दिनकर गुप्ता ने कहा कि एमरजैंसी हैल्पलाईनज़ के द्वारा और ज्यादा लोगों तक पहुँच की जाऐगी। उन्होंने आगे कहा कि कुछ व्यक्ति भी इस यत्न में सहायता के लिए आगे आए हैं।

डीजीपी ने कहा कि मुख्यमंत्री की तरफ से ऐलान किये अनुसार दिहाड़ीदारों और ग़ैर -संगठित मज़दूरों को घर -घर सूखे राशन के 10 लाख पैक्ट बाँटने के लिए मुहिम कल से शुरू होगी।श्री गुप्ता ने कहा कि वितरण की प्रक्रिया में पुलिस टीमों ने सभी जि़लों में बड़ी संख्या में झुग्गी झोंपड़ी वालों की पहचान की है और लगभग हर क्षेत्र में भोजन पैक्ट और सूखा राशन पहुँचाया जायेगा। उन्होंने उम्मीद जताई कि वह सभी बड़े और छोटे हिस्सों को जल्द ही कवर करेंगे। उन्होंने आगे कहा कि पुलिस फोर्स ने एनजीओज़ साथ साथ अन्य संगठनों के साथ भी गठजोड़ किया है जिनमें भोजन पैक्ट मुहैया कराने की इच्छा ज़ाहिर की है और उनको हर संभव सहायता दी जा रही है।डीजीपी ने कहा कि लोगों को कैमिस्ट की दुकानों, जहाँ से भीड़ इक_ी होने की खबरें आ रही हैं, पर लोगों को सामाजिक दूरी बनाई रखने के लिए जागरूक किया जा रहा है और इसको यकीनी भी बनाया जा रहा है।

जिला स्तरीय विवरण देते हुये डीजीपी ने बताया कि पटियाला प्रशासन की तरफ से जिले में रजिस्टर्ड दुकानदारों को होम डिलिवरी के द्वारा ज़रूरी वस्तुएँ मुहैया करवाने के लिए लायसेंस दिए गए हैं। इसके साथ ही अधिकारित दुकानदारों की सूची भी जारी की है।मानसा और बठिंडा जिले में प्रशासन ने दुकानदारों को पास जारी करके और विभिन्न समय पर लोगों को अपेक्षित समान मुहैया करवाना शुरू कर दिया है।डीजीपी ने कहा कि हालाँकि, मोगा जिले में दुकानदारों ने वस्तुओं की घर -घर सप्लाई करने से इन्कार कर दिया था, जबकि लुधियाना और फाजिल्का में कीमतों में वृद्धि की खबरें आईं हैं। डीजीपी ने आगे कहा कि इसी तरह, फिऱोज़पुर में घर घर सप्लाई अभी चालू नहीं हुई। तरनतारन में पेट्रोल पंप खोलने संबंधी कुछ मुश्किल आ रही है। श्री गुप्ता ने कहा कि कुछ क्षेत्रों से आए दिन मुश्किलें सामने आईं हैं। उन्होंने कहा कि प्रशासन और ज़मैटो, सविगी, उबेर इट्स आदि जैसे डिलीवरी वाहनों के साथ तालमेल करके इन मुद्दों के हल के लिए सभी यत्न किये जा रहे हैं। 

Coronavirus Update (Live)

Coronavirus Update

error: Content is protected !!