सफाई कर्मचारी से सफाई के अलावा और कोई काम न लिया जाए-डिप्टी चेयरमैन

डिप्टी चेयरमैन राम सिंह ने की अधिकारियों से बैठक 

गुरदासपुर। सफाई कर्मचारी कमिशन पंजाब के डिप्टी चेयरमैन राम सिंह ने संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ स्थानीय पंचायत भवन में बैठक की। जिसमें डीसी विपुल उज्जवल, सहायक कमिश्नर (शिकायतें) अमनदीप सिंह, इंद्रजीत सिंह व अन्य मौजूद थे।

बैठक के दौरान डिप्टी चेयरमैन राम सिंह ने कार्य साधक अधिकारी गुरदासपुर को हिदायत की कि सफाई सेवक नगर कौंसिल कार्यालय में काम कर रहे है। उनसे सफाई के अलावा कोई भी और काम न लिया जाए। सफाई ठेकेदार के पास 115 सफाई कर्मचारी काम कर रहे है। इनमें से 15 सफाई कर्मचारी अनुपस्थित है, लेकिन उनके वेतन ड्रा की जा रही है। उन्होंने ईओ गुरदासपुर को हिदायत की कि आम देखने में आया है कि सफाई कर्मचारी से ड्राइविंग का काम लिया जा रहा है। इससे सफाई कर्मचारी से शौषण हो रहा है। जो सफाई कर्मचारी अस्थायी तौर पर काम कर रहे है, उन्हें स्थायी करने की प्रक्रिया शुरु की जाए। सफाई कर्मचारियों के वेतन बैंक अकाउंट में ही डाली जाए। क्योंकि ठेकेदार द्वारा सरकार से डीसी रेट मुताबिक पैसे लेकर सफाई कर्मचारियों को कम वेतन दिया जाता है। 

बैठक के दौरान कार्य साधक अधिकारी दीनानगर ने डिप्टी चेयरमैन को बताया कि दीनानगर में पहले चार साल से सफाई कर्मचारियों को चार हजार रुपए वेतन दिया जाता था और अब कुछ महीनों से छह हजार वेतन उनके अकाउंट में डाली जा रही है। इस संबंधी उन्होने ईओ दीनानगर को हिदायत की कि वह ठेकेदार से इस संबंधी क्लीयर करके कमिशन को रिपोर्ट पेश की जाए और ठेकेदार द्वारा जो सफाई कर्मचारियों को वेतन कम वेतन दिया गया है। उसकी तुरंत रिकवरी करके सफाई कर्मचारियों को उनका बनता बकाया दिया जाए। इसी तरह कार्य साधक कादियां को डिप्टी चेयरमैन ने हिदायत की कि पिछला रिकार्ड चेक कर बताया जाए कि सफाई कर्मचारियों को पूरे वेतन ही दिए गए थे। इस संबंधी कमिशन को रिपोर्ट पेश की जाए। बैठक के दौरान कार्य साधक अधिकारी फतेहगढ़ चूडिय़ा व बटाला जो बैठक में अनुपस्थित थे और इस संबंधी किसी भी अधिकारी को लिखित नहीं बताया गया। इस संबंध में डिप्टी चेयरमैन ने इसका कड़ा नोटिस लेते हुए ईओ फतेहगढ़ चूडिय़ा को इस बारे में स्पष्टीकरन देने के बारे में सहायक कमिशनर (शिकायतें) को कार्रवाई के लिए कहा गया।

सफाई कर्मचारियों ने डिप्टी चेयरमैन के ध्यान में लेकर आए कि कार्य साधक धारीवाल की ओर से उनका काटा जा रहा ईपीएफ वापिस नहीं दिया जा रहा है। जिसके बाद ईओ को हिदायत की कि सफाई कर्मचारियों का ईपीएफ संबंधी क्लीयर रिपोर्ट कमिशन को पेश की जाए। अगर कोई भी लापरवाही की गई तो कसूरवार कर्मचारी/अकाउंटेंट की जिम्मेदारी फिक्स कर उसके खिलाफ बनती कार्रवाई की जाए। बैठक में कार्य साधक अधिकारी डेरा बाबा नानक ध्यान में लेकर आए कि इस कमेटी की सीमा में छह हजार की आबादी है। चार सफाई कर्मचारी स्थायी और छह सफाई कर्मचारी अस्थायी काम कर रहे है। अगर कोई ज्यादा सफाई कर्मचारियों की जरुरत पड़ी है तो ईओ बटाला से सफाई कर्मचारी मंगवाए जाते है।

डिप्टी चेयरमैन ने हिदायत की कि अगर कमेटी में और सफाई कर्मचारियों की जरुरत है तो भर्ती करने की प्रक्रिया शुरु की जाए। श्री हरगोबिंदपुर के कार्य साधक अधिकारी को हिदायत की कि सफाई कर्मचारियों से और कोई काम न लिया जाए और कर्मचारियों को समय पर वेतन दिया जाए। इस मौके पर जिला भलाई अधिकारी संजीव मनन, डीएसपी गुरदासपुर विपन कुमार, डीईओ राकेश बाला , रजिंदर सिंह, अनिल मेहता ईओ, जतिंदर महाजन, अरुण कुमार आदि उपस्थित थे।

Print Friendly, PDF & Email
Thepunjabwire
  • 5
  • 70
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    75
    Shares
error: Content is protected !!