सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों के लिए प्रेरणास्त्रोत है कर्नल गुप्ता की शहादत:कुंवर विक्की

कहा किस्मत वालों को मिलता है वतन पर कुर्बान होने का सुअवसर

बमियाल/पठानकोट, 23 सितम्बर ( नवदीप शर्मा)। जम्मू-कश्मीर के अखनूर सैक्टर में पल्लांवाला क्षेत्र में पाक प्रशिक्षित आतंकियों से लोहा लेते हुए शहादत का जाम पीने वाले सीमावर्ती गांव बमियाल निवासी कर्नल के.एल.गुप्ता का 25वां श्रद्घांजलि समारोह प्रिंसीपल राजकुमार गुप्ता की अध्यक्षता में शहीद की याद में बने सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल बमियाल में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए आयोजित किया गया। जिसमें शहीद सैनिक परिवार सुरक्षा परिषद के महासचिव कुंवर रविन्द्र सिंह विक्की बतौर मुख्य मेहमान शामिल हुए। इनके अलावा शहीद के छोटे भाई सुरेन्द्र गुप्ता, पी.पी.सी.सी के पूर्व सचिव सुरिन्द्र महाजन व प्रिंसीपल जगदेव सिंह, वाइस प्रिंसीपल रविन्द्र सिंह, जी.ओ.जी के ब्लाक अध्यक्ष सूबेदार मेजर सरदारी लाल, उपाध्यक्ष कैप्टन बूटा राम, मां वैष्णों क्लब के अध्यक्ष यशपाल वर्मा, सूबेदार शक्ति पठानिया, इंस्पैक्टर सुखदेव सिंह, शहीद सिपाही दीवान चंद की धर्मपत्नी सुमित्री देवी, कारगिल शहीद लांस नायक हरीश पाल शर्मा की माता राज दुलारी आदि ने विशेष मेहमान के तौर पर शामिल होकर शहीद कर्नल के.एल.गुप्ता को श्रद्घासुमन अर्पित किए।

सर्वप्रथम मुख्यातिथि व अन्य मेहमानों ने शहीद के चित्र समक्ष ज्योति प्रज्वलित व पुष्पांजलि अर्पित कर कार्यक्रम का आगाज किया। श्रद्घांजलि समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यातिथि कुंवर रविन्द्र विक्की ने कहा कि शहीद कर्नल के.एल.गुप्ता की शहादत सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों के लिए प्रेरणास्त्रोत है तथा 25 वर्ष पूर्व उनके द्वारा जगाई देशभक्ति की मशाल आज भी प्रज्वलित है। जिसकी लौ में क्षेत्र के युवा कर्नल गुप्ता के बलिदान से प्रेरणा लेकर भारतीय सेना में भर्ती हो राष्ट्र निर्माण में अपना बहुमूल्य योगदान दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे शूरवीरों की वीरगाथाएं स्कूलों के पाठ्यक्रम में शामिल होनी चाहिए ताकि देश की भावी पीढ़ी ऐसे रणबांकुरों को अपना रोल माडल बना इनके पद्चिन्हों पर चलते हुए शहीदों के सपनों को साकार करें। उन्होंने कहा कि किस्मत वालों को वतन पर कुर्बान होने का सुअवसर प्राप्त होता है तथा वो सैनिक धन्य है, जिसके हिस्से में यह मुकाम आता है तथा उसका सेना में भर्ती होने के सपना साकार हो जाता है,क्योंकि उस सैनिक के बलिदान की शौर्य गाथा लम्बे समय तक लोगों के दिलों में समाई रहती है।

खुशकिस्मत हूॅ एक शहीद के नाम पर बने स्कूल की कर रहा हूँ सेवा:प्रिं.गुप्ता
प्रिंसीपल राजकुमार गुप्ता ने आए मेहमानों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि यह मेरी खुशकिस्मती है कि मुझे एक शहीद के नाम पर बने स्कूल की सेवा करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। उन्होंने कहा कि स्कूल की हर क्षेत्र में बढिय़ा कार्यशैली को देखते हुए सरकार ने हमें एन.सी.सी का जूनियर व सीनियर विंग अलॉट कर दिया है, जिसमें छात्रों में सेना में भर्ती होने का जज्बा पैदा होगा। इस अवसर पर उनके द्वारा शहीद के परिजनों सहित पांच अन्य शहीद परिवारों को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। इस मौके पर मास्टर मदन लाल, रविन्द्र मन्हास, सर्वजीत, मैडम शुभलता, चंद्र कला, रवि रमेश, सूबेदार कैलाश राज, हवलदार हरजीत सिंह, हवलदार बलवीर दास, पवन कुमार आदि उपस्थित थे।

error: Content is protected !!