विशेश- भारत पाक सरहद पर पूरी तरह चौकस गुरदासपुर सैक्टर के बीएसएफ जवान

घुसपैठ के साथ साथ नशा तस्करी रोकने में बीएसएफ के जवान निभा रहे अहम भूमिका

2016 से अब तक कुल 14 घुसपैठियों को बना चुके है बीएसएफ के जवान गोली का शिकार
मनन सैनी
गुरदासपुर, 22 अगस्त । सैक्टर गुरदासपुर में पड़ती अंतराष्ट्रीय भारत पाकिस्तान सीमा पर बार्डर सिक्यूरिटी फोर्स (बीएसएफ) के जवान पूरी तरह चौकस है तथा हर गतिविधि पर पैनी नजर रखे हुए है। बीएसएफ के जवान पाकिस्तान से घुसपैठ रोकने के साथ साथ नशा तस्करी रोकने में भी अहम भूमिका अदा कर रहे है। पाकिस्तान की ओर से अवैध घुसपैठ करने की फिराक में कई घुसपैठियों को जान से भी हाथ धोना पड़ा है, परन्तु बीएसएफ के जवान निरंतर प्रयास करते रहे है कि कोई भी चूक न हो। हालाकि इससे पहले रतडवां गांव, दीनानगर तथा पठानकोट में आतंकवादी गुरदासपुर सैक्टर के रास्ते का इस्तेमाल कर भारत में प्रवेश करने में सफल रहे है। परन्तु उक्त वारदातों के बाद सीमा पर चौकसी बेहद ज्यादा बढ़ा दी गई। जिसमें जवानों की तैनाती, सीसीटीवी कैमरा , हाईबीम लाईटों, सैंसर इत्यादि शुमार है।

गुरदासपुर में जम्मू के कई इलाकों से लेकर अमृतसर जिले के कई इलाकों तक सैक्टर गुरदासपुर में पड़ती करीब 136 किलोमीटर लंबी भारत पाकिस्तान सरहद पर रावी दरिया समेत अन्य नालों के 13 गैंप है, जहां कंटीली तार नही लगी है। परन्तु ऐसे स्थानों पर बोट के जरिए गश्त तथा कैमरों के जरिए बीएसएफ के जवान अंतराष्ट्रीय सीमा की रक्षा कर रहे है। जिला गुरदासपुर में पड़ते करतारपुर कारिडोर बनने के बाद इस अंतराष्ट्रीय प्वाईंट पर बीएसएफ के जवान ज्यादा ​ध्यान दे रहे है।

अभी कोरोना काल के चलते बेशक आवागमन बंद है परन्तु इससे पहले भी लोगो की धार्मिक भावनाओं का ख्याल रखते हुए दूरबीन के जरिए लोगो को सुविधाजनक दर्शन करवाने में भी बीएसएफ के जवानों का अहम रोल रहा है। वहीं तार के उस पार किसानों को खेत में काम करने के लिए जाने के लिए पास जारी करने के उपरांत वापसी पर किसानों की चै​​​​किंग से लेकर ट्रैक्टरों तथा खेती के औजारों तक की बारिकी तक जांच करने में भी बीएसएफ के जवानों ने खता नही खाई है।

अगर 2016 के आंकडो से अब तक के आंकड़ों पर गौर किया जाए तो सैक्टर बीएसएफ की ओर से 14 पाकिस्तानी घुसपैठियों को मौत के घाट उतारा जा चुका है। इन सालों के दौरान कुल 95 भारतीयों , 21 पाकिस्तानी एवं 1 बंगलादेशी को सरहद से गिरफ्तार किया जा चुका है। इसी के साथ कुल 219 किलों 702 ग्राम हेरोइन बरामद की जा चुकी है।

2020 में में अभी तक कुल 87 किलों 270 ग्राम हेरोइन तथा 11 भारतीय नागरिकों एवं 1 पाकिस्तानी नागरिक को पकड़ा गया है। वहीं 2019 में 4 भारतीय नागरिकों एवं 2 पाकिस्तानी नागरिकों को पकड़ा गया जबकि 1 पाकिस्तानी को सरहद पार करते हुए मार गिराया गया। वहीं 2018 में कुल 22 किलों 855 ग्राम हेरोइन पकड़ी गई तथा 22 भारतीयों तथा 2 पाकिस्तानी नागरिकों को सरहद पर से गिरफ्तार किया गया जबकि 3 घुसपैठियों को मार गिराया गया।

2017 में कुल 74 किलों 962 ग्राम हेरोइन पकड़ी गई जबकि 5 पाकिस्तानी घुसपैठियों को भारत में घुसते हुए ढेर किया गया। इसी के साथ 12 भारतीय एवं 6 पाकिस्तानी नागरिकों को सरहद पर से पकड़ा गया। वहीं 2016 में कुल 34 किलों 615 ग्राम हेरोइन जब्त कर 5 पाकिस्तानी घुसपैठियों को सरहद पार करते हुए बीएसएफ के जवानों की गोली का निशाना बनना पड़ा तथा 46 ​भारतीय, 10 पाकिस्तानी एवं 1 बंगलादेशी को सरहद पर से गिरफ्तार किया गया।

इस संबंधी बीएसएफ के डीआईजी राजेश शर्मा ने कहा कि बीएसएफ के जवान सरहद की रक्षा में दिन रात तैनात रहते है और किसी भी प्रकार की हरकत पर कड़ी प्रतिक्रिया देते है। उन्होने कहा कि गुरदासपुर सैक्टर में रात के समय सीमा पर कर्फ्यू भी लगाया जाता है और कड़ी निगरानी की जाती है। उन्होने बताया कि पाकिस्तानी की ओर से ड्रोन के जरिए गतिविधियां कम है परन्तु जब भी कुछ हरकत होती है तो जवानों को पूरी तरह की छूट दी गई है।

Coronavirus Update (Live)

Coronavirus Update

error: Content is protected !!