कानून सबके लिए एक समान, परचे रद्द हो या कांग्रेसी मंत्री, विधायक पर भी प्रशासन दर्ज करे परचा-बब्बेहाली

सरकार को चेताया न परचों से पहले डरे है और न अब डरेगें, धरने देकर थानों का किया जाएगा घेराव

गुरदासपुर, 10 जुलाई (मनन सैनी)। कानून सबके लिए एक समान होना चाहिए तथा कानून की परिभाषा सभी के लिए अलग अलग नही होनी चाहिए। कांग्रेस की सरकार तथा उनके मंत्रियों के इशारों पर अकाली दल के नेताओं तथा वर्करों पर किए गए परचों से अकाली दल डरने वाला नही है और न ही अन्याय के खिलाफ चुप करके बैठ जाएगें। लोगो के हितों की जब भी कोई बात आएगी तो अकाली दल तथा उनके वर्कर कभी चुप नही बैठेगें। यह कहना है अकाली दल के जिला प्रधान एवं पूर्व मुख्य संसदीय सचिव गुरबचन सिंह बब्बेहाली का जो शुक्रवार को अपने गृह स्थान पर पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे। गौर रहे कि प्रशासन की ओरसे मंगलवार को अकाली दल की ओर से किए गए प्रर्दशनों के उपरांत जिला प्रधान बब्बेहाली समेत कई अन्यों पर मास्क न पहनने तथा सोशल डिस्टैंसिंग मेनटेंन न करने पर एपिडेमिक एक्ट के तहत मामले दर्ज किए गए थे।  

जिला प्रधान बब्बेहाली ने कांग्रेसी मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा तथा ​गुरदासपुर के विधायक बरिंदरमीत सिंह पाहड़ा की ओर से की गई बैठकों संबंधी फोटो जारी करते हुए कहा कि अकाली दल के वर्करों की ओर से तो सिर्फ बोलते वक्त मास्क उतारे गए थे परन्तु उक्त नेताओं के मास्क कहां है और इन्होने सोशल डिस्टैंसिंग कहां अपना रखी है। बब्बेहाली ने कहा कि हमारे वर्कर पर्चों से डरने वाले नही है और अन्याय के खिलाफ सदा ही खड़े होते आए है और होगें।

बब्बेहाली ने कहा कि हमने प्रशासन को अर्जी दी थी तथा बात भी की थी कि प्रर्दशन के दौरान पूरा ख्याल रखा जाएगा। जिसका पालन भी अकाली दल के वर्करों की ओर से किया गया। इसलिए वह सरकार को निवेदन करते है ​कि सभी किए गए पर्चे रद्द होने चाहिए अन्यथा उक्त सभी मंत्रियों पर भी परचे दर्ज किए जाने चाहिए जिन्होने नियमों की सरेआम धज्जियां उड़ाई है।

उन्होने कहा कि वह चेताना चाहते है कि अकाली दल की ओर से कोई जमानत नही करवाएगा, अगर परचा रद्द करना है तो करें अन्यथा दस हजार आदमी एकत्र कर रोष प्रर्दशन कर अपनी गिरफ्तारी दी जाएगी। इस मौके पर उनके साथ गुरइकबाल सिंह माहल, एडवोकेट अमरजोत सिंह बब्बेहाली सहित कई अन्य अकाली नेता तथा समर्थक मौजूद थे।

error: Content is protected !!