कोरोना वायरस भी नही रोक पाया जसलीन सैनी की उड़ान

जोर्जिया जाकर ओलंपिक जीतने के लिए मुश्क्कत जारी रखने का किया फैसला

मनन सैनी
गुरदासपुर। एक तरफ जहां वर्ल्ड हेल्थ आग्रेंनाजेशन (डब्लयू एच ओ) की ओर से कोरोना वायरस को माहमारी घोषित कर दिया गया है। कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए अंतर्राष्ट्रीय जूडो फेडरेशन ने टोकियो ओलंपिक-2020 के लिए क्वालीफाई जूडो मुकाबले रद्द कर दिए है। वहीं कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप से भी गुरदासपुर के अंतर्राष्ट्रीय जूडो खिलाड़ी जसलीन सिंह सैनी के हौंसले पूरे बुंलंध है।  सभी प्रकोप को दरकिनार करते हुए अपना समय अपने प्रशिक्षण पर लगाने के लिए जॉर्जियां में जाने का फैसला किया है।

सैनी के कोच कोच अमरजीत शास्त्री ने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय जूडो फेडरेशन ने 30 अप्रैल तक कोई भी विश्व स्तरीय टूर्नामेंट करवाने पर रोक लगाई हुई है। लेकिन जसलीन सिंह सैनी ने जिंदल स्टील वर्कस स्पोट्स एकेडमी के सहयोग से जोर्जिया के प्रसिद्ध जुडो सेंटर में ट्रेनिंग लेकर ओलपिंक जीतने के लिए मशक्कत जारी रखने का फैसला किया है।

उन्होंने बताया कि जसलीन सिंह सैनी 66 किलो भार वर्ग में 854 अंक लेकर एशिया दीप में मौजूदा समय के लिए क्वालीफाई है। जिसकी अंतिम घोषणा 30 जून को होगी। अपनी खेल को समर्पित सैनी ने अंतर्राष्ट्रीय उडानों पर न जाने की चेतावनी की प्रवाह न करते हुए जूडो खेल को जारी रखने के लिए विदेशों में ट्रेनिंग लेने को पहल दी है। भारती जूडो फेडरेशन ने 16 मार्च से 21 मार्च तक चंडीगढ़ में होने वाली सीनियर नेशनल जूडो चैंपियनशिप रद्द कर दी है। इसी तरह 30 अप्रैल तक होने वाले विश्व स्तरीय जूडो टूर्नामेंट रद्द होने से जसलीन सिंह सैनी को बहुत घाटा पड़ा है।

कोच ने की पंजाब सरकार से की जसलीन सैनी के वजीफे जल्द जारी करने की मांग

अमरजीत शास्त्री ने पंजाब सरकार से मांग की कि वह खिलाडिय़ों की हितों की रक्षा करते हुए उनके बनते खेल वजीफे शीघ्र जारी करें ताकि जसलीन सिंह सैनी अपने बनते 15 लाख रुपए से और तैयारी करके ओलंपिक 2020 में मेडल जीतकर देश का नाम ऊंचा कर सकें।

error: Content is protected !!