गुरदासपुर में बंद का कोई असर नही, रोजमर्रा की तरह खुले रहे बाजार

प्रर्दशनकारियों ने महज रोष प्रर्दशन किया, चप्पे चप्पे पर तैनात रही पुलिस

गुरदासपुर। विभिन्न संगठनों द्वारा केंद्र के मोदी सरकार के खिलाफ रोष मार्च निकालने के तहत दी गई बंद की काल को शहर में समर्थन नहीं मिला। शहर के बाजार रोजमर्रा की खुले रहे। इस मौके पर सर्वप्रथम सिख संगठन तथा अन्य समुदाय के लोगो के साथ तिबड़ी रोड पर स्थित गुरुद्वारा साहिब में एकत्रित हुए। इसके बाद वहां से केंद्र सरकार के खिलाफ रोष मार्च निकालते हुए रास्ते में खुली दुकानों के मालिकों को हाथ जोड़कर उनका समर्थन करने की अपील की गई। रोष मार्च हनुमान चौक लाइब्रेरी चौक डाकखाना चौक पुरानी सब्जी मंडी चौक से होता हुआ परशुराम चौक में पहुंचा जहां उन्होंने केंद्र सरकार के खिलाफ रोष व्यक्त करते हुए जमकर नारेबाजी की।

इस मौके पर संबोधित करते हुए दल खालसा के महासचिव परमजीत सिंह टांडा ने कहा यह बंद भाजपा के हिंदू राष्ट्र के अंडे देश विरोधी लिए फैसलों के विरोध में है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह की जोड़ी सत्ता के अहंकार में देश विरोधी फैसले लेकर जनता पर आर्थिक बोझ जा रही है। नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ उठी आवाज को डंडे के बल पर भाजपा सरकार दबाने का प्रयास कर रही है।

दल खालसा कि यूथ जिथेबंदी के जिला नेता जसविंदर सिंह ने कहा कि कश्मीर में धारा 370 को रद्द करना अदालत का फैसला राम मंदिर के हक में करवाना वर नागरिकता संशोधित बिल बनाना और अन्ना आर्चीज का प्रताप शोध कानून बनाना निंदनीय फैसले है। भाजपा ने भारत को हिंदू राष्ट्र में बदलने का अमल शुरू कर दिया है। इस मौके पर दिलबाग सिंह, बलविंदर सिंह कुलवंत सिंह अजीत सिंह हरपाल सिंह रघुवीर सिंह रमनदीप सिंह रघुवीर सिंह बलराज सिंह जगीर सिंह आदि उपस्थित थे।

चप्पे चप्पे पर तैनात रही पुलिस 

इस प्रर्दशन के चलते पुलिस ने शहर में बेहद पुख्ता इंतजाम किए हुए थे। जिसका मुख्य कारण गुरदासपुर में राज्य स्तरीय होने वाले गणतंत्र दिवस पर पंजाब के राज्यपाल वी पी सिंह बदनौर का आगमन था। किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए पुलिस की ओर से पहले से ही पुख्ता इंजाम किए गए थे। पुुलिस ने प्रर्दशनकारियों को बाजारों में जाने से मना किया था ताकि कोई अप्रिय घटना न घट सके। 

Coronavirus Update (Live)

Coronavirus Update

error: Content is protected !!