पारदर्शी प्रणाली तथा तत्काल कारवाई के चलते डीसी इश्फाक के कायल हुए बटाला के लोग, इंतकाल पेंडिग होने के चलते अधिकारी के खिलाफ ऑन लाईन मार्क की इंक्वायरी

जहां लोगो को टैस्टिंग के फायदे बताते हुए टैस्ट करवाने पर दिया जोर वहीं अधिकारियों को बनाया जवाबदेह
मनन सैनी

गुरदासपुर, 20 सिंतबर । पारदर्शी प्रणाली लागू करने तथा शिकायतों पर तत्काल कारवाई करने के चलते शहर बटाला के लोग डिप्टी कमिशनर मोहम्मद इश्फाक के बेहद कायल है। लोगो का कहना है कि जहां एक तरफ डिप्टी कमिशनर लोगों की समस्याएं सुन रहे है वहीं उन समस्याओं की जानकारी लेते हुए संबंधित अधिकारियों को पूरी तरह जवाबदेह भी बना रहे है। जिसका ट्रेलर उन्होने फेसबुक पर लाईव प्रोग्राम एवं जूम एप पर लाईव आकर अपनी समस्याएं बता कर देखा। 

गौर रहे कि ​रविवार को शहर बटाला की समस्याएं सुनने के लिए शुरु की गई ऑनलाईन मीटिंग के तहत दूसरी मीटिंग में शहर में साफ सफाई, सड़को की मुरम्मत, कोविड़-19 की टैस्टिंग, गैर कानूनी शराब की ब्रिकी संबंधी हर समस्या पर लोगों की राय ली गई और उनकी शिकायतें सुनी गई। इस मौके पर जहां अधिकारियों से मौके पर ही जवाब मांगा गया वहीं पेडिंग समस्या के हल के लिए उन्हे समयबद्द किया गया। इस मौके पर लोगो से आनलाईन फीडबैंक भी लिया गया।

मीटिंग के दौरान विभिन्न लोगों की शिकायतों सुनते हुए जहां डीसी ने अधिकारियों को उसके हल करने के लिए तत्काल कारवाई करने के लिए कहा। वहीं संजीव कुमार नामक एक व्यक्ति की ओर से ​​पिछले करीब एक साल से इंतकाल न होने के चलते की गई शिकायत में डीसी ने रेव्न्यू विभाग के अधिकारी के खिलाफ ऑनलाईन इंक्वायरी भी मार्क की। लोगों ने शहर में प्लास्टिक के लिफाफों को बंद करने संबंधी डीसी को सख्ती करने के लिए कहा । इसी के साथ साथ ​ शहर में ​नाजायज कब्जे, कूड़ा फैंकने, स्ट्रीट लाईटे न होने संबंधी अपनी शिकायत दर्ज करवाई ।

एक सवाल का जबाव देते हुए डीसी ने बताया कि ​गरीब लोगों के लिए टैस्टिंग ज्यादा जरुरी क्यों है।  उन्होने बताया कि गरीब परिवार जिनके पास महज रहने के लिए एक कमरा है वह टैस्ट करवा कर ही परिवार के दूसरे सदस्यों को संक्रमित होने से बचा सकता है। गरीब एवं जरुरतमंदों की सुविधा के लिए सरकार ही सरकार एवं प्रशासन की ओर से संक्रमित पाए जाने पर मुफ्त आक्सीमीटर रैंट पर दिया जाता है। वहीं उनके निवाह के लिए सरकार की ओर से जरुरतमंद को अनाज तक मुफ्त उपलब्ध करवाया जाता है। डीसी ने लोगो को बताया कि टैस्टिंग के चलते ही पहले भी बटाला में संक्रमण पर लगाम लगाई जा सकी थी। वहीं उन्होने इस बात पर भी गंभीर नोटिस लिया कि निजी लैब एवं अस्पतालों में हो रहे डेंगू, टायफड़ के टैस्ट काफी ज्यादा हो रहे है जिस संबंधी प्रशासन जानकारी हासिल करते हुए उनकी डिटेल लेगा।   

यशपाल चौहान, मंजिदर बल ने बताया कि वह डीसी की पारदर्शीता के कायल है और अगर डीसी अधिकारियों से पेडिंग शिकायतों का हल भी जल्द करवाएंगे ऐसी उन्हे आशा है। उन्होने कहा कि यह एक अच्छा प्लेटफार्म है जिस पर वह अपने शिकायते प्रशासन तक पहुंचा सकते है। चौहान ने कहा कि उन्होने देखा है कि जो डीसी ने मीटिंग में कहा है वह हुआ है। उन्होने कहा कि प्रशासन को चाहिए कि हर वार्ड के कौंसलर को भी कहे कि वह कोरोना वायरस के टैस्ट करवाने संबंधी अपनी भूमिका दर्ज करवाए।

Thepunjabwire
  • 7
  • 59
  •  
  • 0
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    66
    Shares
error: Content is protected !!