आप के खिलाफ बयानबाजी करने के बजाय, सिंगला उन बेरोजगार शिक्षकों से मिले जो पिछले बारह दिनों से उनके घर के बाहर प्रदर्शन कर रहे हैं : आप

शिक्षकों का अपमान करने वाले सिंगला, हमें ज्ञान न दें : मीत हेयर

कहा कि कैप्टन ने गृहमंत्री से मुलाकात के दौरान किसानों के बारे में एक शब्द भी नहीं बोला

अगर सिंगला की नजर में किसानों की मदद करना पाप है, तो ‘आप’ इस पाप को जारी रखेगी

किसानों के मसीहा बनने वाले कैप्टन और उनके मंत्री अभी तक किसान आंदोलन में क्यों नहीं गए?

चंडीगढ़, 11 जनवरी 2021-आम आदमी पार्टी के यूथ विंग के प्रदेश प्रधान व बरनाला से विधायक गुरमीत सिंह मीत हेयर ने पंजाब के शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला द्वारा आप  के खिलाफ दिए गए बयान की कड़ी निंदा की। पार्टी मुख्यालय से जारी बयान में हेयर ने कहा कि जो मंत्री बेरोजगार शिक्षकों की बात सुनने के बजाय उन्हें प्रताड़ित कर रहे हैं, वे किसानों के साथ खड़े रहने के लिए अब आम आदमी पार्टी को निशाना बना रहे हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला मोदी-शाह के दिशानिर्देश के अनुसार काम करने वाले अपने मुख्यमंत्री के सहयोगी के रूप में काम कर रहे हैं। 

उन्होंने कहा कि जिस तरह केंद्र की मोदी सरकार कड़ाके की इस ठंड में आंदोलन कर रहे किसानों की कोई बात नहीं सुन रही है उसी तरह पंजाब के शिक्षा मंत्री अपने घर के बाहर बैठे बेरोजगार शिक्षकों को इस जानलेवा ठंड में पिछले बारह दिन से खड़ा कराये हुए हैं। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी को दोष देने के बजाय, शिक्षा मंत्री को पहले उन बेरोजगार शिक्षकों से मिलना चाहिए और उनकी समस्याओं को दूर करना चाहिए। सिंगला को दिल्ली की केजरीवाल सरकार से सीखना चाहिए कि शिक्षकों को कैसे सम्मान दिया जाता है। उन्होंने कहा कि आश्चर्य की बात है कि जो लोग देश का भविष्य तैयार करने वाले शिक्षकों का सम्मान करना नहीं जानते, जो शिक्षकों के खिलाफ अपमानजनक भाषा का उपयोग करते हैं वो दूसरों को ज्ञान बांट रहे हैं।

हेयर ने  सवालिया लहजे में कहा, पंजाब के अन्नदाता पिछले कई महीनों से सड़कों पर अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहे हैं, लेकिन शिक्षा मंत्री सिंगला और उनकी सरकार ने किसानों के साथ चाल चलने के अलावा क्या किया? उन्होंने पूछा कि क्या मंत्री सिंगला बताएंगे कि कैप्टन ने आज तक किसानों के मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से समय क्यों नहीं मांगा? क्या सिंगला ये बताएंगे कि जब कैप्टन केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिले तो किसानों की मांग के बारे में एक शब्द भी क्यों नहीं कहा? उन्हें बताना चाहिए कि  कैप्टन की अमित शाह के साथ क्या डील हुई कि शाह से मिलने के बाद पंजाब में किसानों के खिलाफ केस दर्ज करने की प्रक्रिया में एकाएक तेजी आ गई?

उन्होंने कहा कि अगर सिंगला आम आदमी पार्टी द्वारा किसानों के लिए किए गए काम को अपराध मानती है तो हमें ये अपराध मंजूर है। उन्होंने कहा कि किसान हमारा पेट भरता है इसलिए मुसीबत के समय उनके साथ खड़ा होना हमारा कर्तव्य है।

 उन्होंने कहा, कैप्टन अमरिंदर और उनके मंत्री किसान हितैषी होने का ढोंग कर रहे हैं। कैप्टन सरकार काले कानूनों के लिए उतना ही ज़िम्मेदार है, जितना केंद्र की मोदी सरकार। कैप्टन ने इन काले कानूनों के मसौदे पर हस्ताक्षर किए थे और किसानों के मृत्यु वारंट पर अपनी सहमति जताई थी। अब जब लोगों को पता चल गया है तो कैप्टन और उनकी पूरी टीम किसानों का मसीहा बनने का नाटक रच रहे हैं।

Thepunjabwire
  • 3
  • 51
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    54
    Shares
error: Content is protected !!